Baahubali 2 के हर कैरेक्टर के माथे पर बने चिन्ह में छुपा है एक राज़! क्या आपको पता है?

रिलीज़ होने के 4 हफ्ते के अंदर 1500 करोड़ का बिज़नेस कर चुकी Baahubali 2 वाकई में एक ऐसी फिल्म है जिसकी बराबरी आने वाले समय में शायद ही कोई फिल्म कर सके और इसके पीछे की एक बड़ी वजह है इसके स्ट्रॉन्ग किरदार और साथ ही फिल्म की छोटी-छोटी बारीकी पर दिया गया पूरा ध्यान।

अगर कोई कहे भी कि उसने इस फिल्म को गौर से देखा है तो भी कुछ बारीकी ऐसी है जो उसने मिस कर दी होगी. हम आपको ऐसी ही एक बारीक़ डिटेलिंग के बारे में बताने जा रहे हैं. आपने नोटिस किया होगा कि इस फिल्म में सभी पात्रों के सर पर एक अलग किस्म की बिंदी थी. ये सिर्फ सजावट के लिए नहीं थी बल्कि इन बिंदियों का एक मतलब था. इन बिंदियों के पीछे छिपे उस मतलब को हम आपको बताने जा रहे हैं।

Sivagami Devi:

Sivagami Devi

शिवगामी देवी महिष्मति की महारानी थी जिनका वचन ही शासन था। सिवगामी के माथे पर बनी बड़ी सी गोल चमकदार बिंदी असल में एक पूरा चांद है जो निडरता, शक्ति और समानता का प्रतीक है, जो कि सभी इनके गुण थे।

Katappa:

Katappa

कटप्पा के माथे का ये तिलक उनकी मजबूरी और गुलामी को दिखाता है. वो महिष्मति के सिंघासन के लिए बहुत वफादार हैं इसलिए वो दिल पर पत्थर रखकर भी अमरेंद्र बाहुबली को मार देते हैं।

Bhallal Dev:

Bhallal Dev

भल्लाल के माथे पर उगता सूरज बना है जो महिष्मति साम्राज्य को दर्शाता है. भल्लाल हमेशा से ही महिष्मति पर राज करना चाहता था. उसका ये तिलक शक्ति और ताकत प्रतीक है जो उसके शातिर चरित्र को जस्टिफाई करता है.

Mahendra Baahubali:

Mahendra Baahubali

महेंद्र भगवान शिव के बहुत बड़े भक्त हैं. इसलिए उसके सर पर सांप बना हुआ है. ये महेंद्र के भगवान शिव के प्रति निष्ठा को दिखाता है. फिल्म में महेंद्र बाहुबली का नाम पहले ‘नंदी’ रखा जा रहा था और महेंद्र को शिव जी का ही एक रूप दिखाया जाना था.

Devasena:

Devasena

वो एक योद्धा राजकुमारी थीं. फिल्म में देवसेना शिवगामी से कई बार भिड़ते हुए नज़र आयीं. देवसेना की बिंदी को गौर से देखने पर मालूम पड़ता है कि ये पुरुष और स्त्री के लिंग का मिला हुआ चिन्ह है. ये लैंगिक समानता यानी जेंडर इक्वॉलिटी को दर्शाता है.

Amarendra Baahubali :

Amarendra Baahubali

अमरेंद्र एक दयालु और शांत स्वाभाव के व्यक्ति हैं इसलिए उनके सर पर आधा चांद बना है. प्रजा द्वारा सबसे ज़्यादा पसंद किये जाने वाले राजा अमरेंद्र ही थे.

Avanthika:

Avanthika

Avanthika के माथे पर बने भाले की नोक एकाग्रता का प्रतीक है और Avanthika का पूरा ध्यान Devasena की आज़ादी पर था.

Bijjaladev:

Bijjaladeva

Bijjaladeva के माथे पर बना त्रिशूल हिंदू वेदों के हिसाब से सात्विक, ताम्सिक और राजसिक गुणों का प्रतीक है.

अगर आप इसी तरह की जानकारी अपने ईमेल पर पाना चाहते है तो हमारी वेबसाइट को आज ही subscribe करले और हमें फेसबुक पर फॉलो करे!

पोस्ट अच्छी लगे तो जरूर शेयर करे

Shares 0

Comments

comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!